मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

April 30, 2010

पढ़े लिखे जाहिल ??

पढ़े लिखे जाहिल ?? किसको को और कब कहना सही माना जायेगा

मुहावरे अपने आप निकलते हैं , मेरा मानना ये हैंआप क्या कहते हैं जब भी हम अभिव्यक्त करते हैं क्या मुहावरे अपने आप नहीं बे साख्ता मुहं से निकालते हैं

5 comments:

  1. यदि आपको घटिया पोस्टों पर वाहवाही करने वाले जाहिल देखने हों तो कृपया इस लिंक पर जाएँ.
    http://kaduvasach.blogspot.com/2010/04/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  2. है तो ये त्रासदी!

    पर होते है पढ़े लिखे जाहिल भी!एक-आध का जिक्र भी कर दिया होता तो भला था!



    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  3. कूप कृष्णApril 30, 2010 at 10:09 PM

    मतलब वहाँ लोग पढ़े लिखे हैं और टिप्पणियाँ कर रहे।यहाँ अनपढ़ पोस्ट लिखने बैठ गए।फिर अनपढ ज्योत्सना से टिप्पणी भी करवा दिए।हद होती है किसी चीज की।अरे कब तक दूसरों की उतरन से अपना काम चलाओगी रचना।कभी खुद भी ऐसा लिखो कि लोग दौड़े आएँ तुम्हे पढने।मानसिकता दो शब्दों से ही दिखती है।यहान दो दो लाईने है।वो भी किसी और की।अब तो विश्वास हो गया कि मानसिक रोगा ताउम्र बना रहता है।मोदेरेशन है इसलिये लिखे जा रहा हूँ यह कौन सा पब्लिश होना है।हो भी गया तो सब मुंह दबा कर हसेंगे।उतरन से काम चलाना अब बन्द कर दो।अपना खुद का ओडना बिछाना शुरू करो

    ReplyDelete
  4. वाह पहले एक नाम से कमेन्ट करो फिर दूसरे नाम से उसी कमेन्ट को गलियाँ दो । किसी कि पोस्ट पर २९ कमेन्ट डालो और उम्मीद करो सब पुब्लिश हो । क्या वो सब कमेन्ट मे पढ़ती हूँ , जी नहीं क्युकी कमेन्ट ईमेल मे नहीं लेती
    दो लाइन कि प्सोत पर इतना हडकंप वो भी उनके दुआरा जो एक दूसरे को अनाम बताते हैं
    जय हो

    ReplyDelete

Blog Archive