मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

August 20, 2009

स्वप्नलोक मे बंटता ब्लॉगर

कल फिर प्रकारों मे बटा
स्वप्नलोक मे ब्लॉगर
एक प्रकार रह गया
चमचा ब्लॉगर
जो जैसे ही
ब्लॉग जगत मे आता हैं
पुराने ब्लॉगर के ब्लॉग
की चर्चा कर जाता हैं
और फिर चर्चा
के मंच पर
ब्लॉग चर्चा करता हैं
अरे वही
जो अपने को
चमचा नहीं शिष्य
कहता हैं

20 comments:

  1. सीधे हमला क्यों नहीं किया

    ReplyDelete
  2. चमचा पहचाना गया
    रचना में बांधा गया
    हम दुखी नहीं हैं
    अपने दुख से
    दूसरे का सुख
    हमसे देखा न गया।

    ReplyDelete
  3. अपने यहाँ तो पुराने ज़माने से ऐसे लोगों की परम्परा रही है. वैसे वह महान कविता मैं देख आया हूँ.

    ReplyDelete
  4. कौन है भई? बड़ा जोर डाला दिमाग पर-समझ ही नहीं आ रहा.

    कोई तो बूझो??

    ReplyDelete
  5. रचनाजी, इस तरह की कवितायें लिखकर आपको कौन सा सुख मिलता है? किसको सुख देती हैं? विवेक को चमचा ब्लागर कहकर क्या आनंद मिला आपको?

    ReplyDelete
  6. For Anup
    Before you question the reason of this poem feel free to read . And its you who is pointing to a name I have not . Freedom of speech and liberty is viceversa all of us need to remember this and when its within the parameters then why should it hurt .

    "कुछ संजीदा टाइप ब्लॉगर जिनके कंधों पर ब्लॉग-जगत की सारी चिंताओं का भार रखा रहता है, हमेशा गंभीर मुद्रा का लबादा ओढ़े रहते हैं . अगर इनको कहीं हँसी-मजाक होता दिख जाए तो ये फौरन हा हा-ठी ठी का झूठा केस बना देते हैं . हँसने मुस्कराने वाले लोगों से इन्हें सख्त नफरत होती है . ऐसे लोगों को देखते ही इनके तन-बदन में वैसे ही आग लग जाती है"

    ReplyDelete
  7. कौन सा सुख मिलता है? किसको सुख देती हैं?
    I am here to blog and that is my happiness I dont blog to give and take popularity and comments , i blog to enjoy my own self

    ReplyDelete
  8. हमारे लिए तो ये एक पहेली ही है:)

    ReplyDelete
  9. ब्लॉगर के प्रकार पर प्रकाश डालना ज़रूरी तो नहीं. ब्लॉगर तो ब्लॉगर है. अगर तरह-तरह के ब्लॉगर न हों, तो फिर ब्लॉग-जगत में अभिव्यक्ति का बारह बज जाएगा. सभी एक ही तरह से लिखने लगें तो कितना बोरिंग हो जाएगा सबकुछ? आज प्रकार पर चर्चा हो रही है. देखा-देखी कल आकार पर चर्चा होगी. फिर दरकार पर चर्चा शुरू हो जायेगी..:-)

    अब देखिये न. पंडित जी जैसे ज्योतिषी ब्लॉगर के लिए यह पहेली है तो मेरे जैसे के लिए तो यह हथेली हो जायेगी. पढने की कोशिश करेंगे और कुछ नहीं पढ़ सकेंगे.

    अरे, कमेन्ट तो कविता से भी बड़ा हो लगा. अब निकल लेने में ही भलाई है.

    ReplyDelete
  10. वाह! क्या सीन है :-)

    ReplyDelete
  11. रचना जी मेरी समझ से परे है ....... फिर भी समझने की कोशिश में लगा हूँ .......

    ReplyDelete
  12. आपकी अभिव्यक्ति के पीछे कुछ कारण जरुर रहे होंगे !
    निवेदन ये है कि ...क्या इसे टाला नहीं जा सकता था ?

    ReplyDelete
  13. जब विवेक जी ने रचना जी पर लिखा तो अनूप जी की आपत्ति क्यूँ दर्ज नहीं हुई विवेक जी के ब्लॉग पर अगर अनूप जी को ये लगता हैं की ये कविता विवेक जी पर हैं तो और अगर उन्हे ऐसा नहीं लगता हैं तो विवेक जी जैसे हसोड़ ब्लॉगर का नाम अनूप जी ने यहाँ क्यों दिया

    ReplyDelete

  14. पहले न पढ़ पाये थे,
    पर इसका कोई अफ़सोस भी नहीं है ।

    ReplyDelete

Blog Archive