मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

June 28, 2011

हमे तुम्हारा प्यार नहीं तुम्हारा कर्तव्य चाहिये


पुरानी पीढी बोली

नयी पीढी से

तुम क्या जानो

हमने क्या क्या किया हैं अपने

माता पिता के लिये

अब अगर करनी को कथनी का

साक्ष्य चाहिये

तो करनी और कथनी के अन्तर को

हर पुरानी पीढी

नयी पीढी को

समझाती ही रहेगी

श्रवण कुमारो की तादाद

पीढी दर पीढी

साक्ष्य के लिये

धूल भरे रास्तो पर

चलती रहेगी

बच्चे कभी जवान नहीं

सीधे बूढे ही बनेगे

और हर नयी पीढी के करमो को

पुरानी पीढी रोती रहेगी

हमने तुम्हे पैदा किया

तुम हमको ढोते रहो

क्युकी हमे तुम्हारा

प्यार नहीं तुम्हारा कर्तव्य चाहिये

11 comments:

  1. bete ka kartvya dekh rahe hain sab ,mat pita ne kya kiya vo to gaya hai dab.
    nayee peedhi se ve sabhi apekshayen purani peedhi karti hai jo vah khud se bhi nahi karti thi.
    bahut sundar kaha hai rachna ji.

    ReplyDelete
  2. एक तल्ख़ हक़ीक़त।

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. कर्तव्य का पालन तो दोनों ही पेढ़ियाँ अपनी-अपनी जगह करती ही हैं ,मगर पूरानी पीढ़ी कि नई पीढ़ी से हमेशा खुद से ज्यादा ही उम्मीदें होती है...और मेरा ऐसा मानना है कि सारी फसाद कि जड़ यह उम्मीदें ही होती है ...

    ReplyDelete
  5. यही उम्मीदें ज़िंदगी को तल्ख़ बाना देती हैं ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. क्या करे अपने देश में न चाहते हुए भी सभी बड़े बच्चो से उम्मीद लगाये बैठे होते है और उम्मीद ही उनके दुखो का कारण बनता है |

    ReplyDelete
  7. खलील जिब्रान ने कहा है कि हमें बच्चों से उम्मीदें नहीं बांधनी चाहिए. वे हमसे आये हैं लेकिन हमारे नहीं हैं.

    ReplyDelete
  8. कर्तव्य को ही याद करती हैं पीढ़ियाँ।

    ReplyDelete
  9. दो पीढ़ियों के बीच जन्मी उहापोह का अच्छा चित्रण किया गया है. बहुत अच्छे तरीके से पिरोया हुआ है भावनाओं के मोती याने के शब्द-हार......

    ReplyDelete
  10. दो पीढ़ियों के बीच जन्मी उहापोह का अच्छा चित्रण किया गया है. बहुत अच्छे तरीके से पिरोया हुआ है भावनाओं के मोती याने के शब्द-हार......

    ReplyDelete

Blog Archive