मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

September 18, 2011

बस यू ही

छोटी छोटी नावो पर
ज्ञानी टिपण्णी जाल लिये बैठे हैं
ब्लोगिंग के ताल में

मछली से मगरमच्छ तक
हर नए जीव को
प्रोत्साहन के नाम पर
टिपण्णी का चूरा डाल

अपने अपने जाल में
फसाते हैं
उनको सारे नये पुराने अफसाने
फिर सुनाते हैं

किसी का जाल कभी
अगर फट जाता हैं
तो उसके फसाए
सब जीव जंतु बाहर आ जाते

कुछ फिर डूब जाते हैं क्युकी
दूसरे ज्ञानी उनको नहीं बचाते हैं

कुछ डूबते नहीं उतरा जाते हैं
और
टिपण्णी टिपण्णी खेलने लग जाते हैं

कुछ ना डूबते हैं ना उतराते हैं
बस उस ज्ञानी को ही काट खाते हैं
जिसके जाल में फसे थे

फिर एक ज्ञानी दूसरे ज्ञानी को
काटे का इलाज बताता हैं
और दूसरा ज्ञानी अपने जाल के
कांटे सही करने लग जाता हैं

लोग काटने वाले में
बुराई खोजते हैं
जबकि काँटा और चूरा
किसी और का था



दिस्क्लैमेर
ज्ञानी का उपयोग सरदार के लिये भी होता हैं पर यहाँ नहीं किया गया हैं । यहाँ ज्ञानी का अर्थ विद्या के धनी के लिये है
इस पोस्ट का किस ब्लॉगर से क़ोई लेना देना नहीं हैं अगर क़ोई अपने को पता हैं तो वो उसकी कल्पना हैं

8 comments:

  1. खेल टिप्पणी का है पर हम भी अपनी गोलपोस्ट पर खड़े हैं।

    ReplyDelete
  2. मजेदार हकीकत.:)

    रामराम

    ReplyDelete
  3. :) :) :) :D :D

    waaaaaaaaah rachna - bahut khoob ...

    par kya sab hi aise hain ??? i dont think so ...

    ReplyDelete
  4. are ye to dukhad hai ...jo kaam protsaahan ke liye hona chahiye ...vahi...dil dukhta hai to kaise aavaaj karta hai ...dekhiye aapne kavita hi rach dali...

    ReplyDelete
  5. क्या कहने, बहुत सुंदर

    ReplyDelete

Blog Archive