मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

मेरे ब्लॉग के किसी भी लेख को कहीं भी इस्तमाल करने से पहले मुझ से पूछना जरुरी हैं

April 01, 2009

पहचानिये ये कौन कौन हैं । ब्लॉगर हैं हमारे आपके जैसे पर कौन हैं क्या बता सकते हैं ?

http://bloggarpehchan।blogspot.com/


यहाँ जाए

18 comments:

  1. रचना जी आपने फोटोशाप के द्वारा ये समस्या पैदा कर दी , ये पहले ही अच्छै लग रहे थे , कलाकारी की है आपने कोशिश करता हूँ ।। ममता जी , रचना जी , लावण्या जी ,महेन्दर जी , पंगेबाज जी , रंजना जी , अजित जी ,कबाड़खाना ,मानविंदर जी , बाकी आप पर सब मैं क्यों बता दूँ । आगे वालों के लिए कुछ बाकी है ।

    ReplyDelete
  2. ७ ममता जी
    १४ रचना जी
    ४ पंगेबाज
    ११ रंजना भाटिया जी
    ९ राईटोक्रेट कुमारेन्द्र सेंगर
    १० डॉ अमर कुमार
    १ हिमांशु
    ३ ज्ञानदत्त जी
    १३ लावण्या जी
    ६ मानविन्दर जी
    १२ अभिषेक
    ५ महेन्द्र मिश्रा

    ReplyDelete
  3. रचना तुम भी ना कमाल करती हो ।

    क्या गजब के आईडिया ढूंढती हो । :)

    ReplyDelete
  4. मैं भी हूं, समीर जी ने सच्ची सूची लिख दी है ।

    ReplyDelete
  5. १. हिमांशु जी
    २. उन्मुक्त
    ३. ज्ञान दत्त पाण्डेय
    ४. अरुण अरोडा 'पंगेबाज'
    ५. महेंद्र मिश्र
    ६. मनविंदर भिम्भर
    ७. ममता जी
    ८. अजित वडनेरकर
    ९. कुमारेन्द्र सेंगर
    १०. डा. अमर कुमार
    ११. रंजना भाटिया
    १२. अशोक पाण्डेय
    १३. लावण्या जी
    १४. रचना जी

    ReplyDelete
  6. kya kamal kiya hai hum to kisi ko nahi pehchan paaye:)

    ReplyDelete

















  7. mera uttar sahi hai na !
    एक अप्रैल की शुभकामनाओं के साथ

    ReplyDelete
  8. सारे ब्लोगर अपनी असली सूरत में पेश कर दिए आपने...बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  9. बन गए ना सब? सारे चित्र मेरे हैं।

    ReplyDelete
  10. अरे ये तो कमाल किया आपने ..
    और फिर भी लोग पहचान गये !! :)
    - लावण्या

    ReplyDelete
  11. सतीश चन्द्र सत्यार्थीApril 1, 2009 at 8:13 PM

    ये तो किसी दुसरे ग्रह से आये ब्लोगर लग रहे हैं.
    आप इनसे कहाँ मिल गयीं?

    ReplyDelete
  12. भाई कुश वाली लिस्ट को मेरी ही समझे

    ReplyDelete
  13. main to ye soch raha hoon ki ye aade tedhe munh wale log kitnaa badhiyaa likhte hain, kamaal hai na.

    ReplyDelete
  14. भाई वाह! कुश जी ने तो सब को पहचान लिया , थोडा सा
    मानसिक व्यायाम के बाद मैंने भी लगभग पहचान लिया ,
    यह भी अच्छा रहा .../

    ReplyDelete
  15. ओह रचना जी कहाँ लपेट लिया अपने मुझे . बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  16. कमाल है ... फिर भी लोगों ने पहचान लिया ... अच्‍छा रहा।

    ReplyDelete
  17. In the name of modern art or distortion !

    ReplyDelete

Blog Archive